मुस्लिम महिला कैमरामैन पर ह#मला, आंसूओं के साथ…

129

मैं हैरान थी, जब पीछे से किसी ने मेरी पीठ पर एक लात मारी। ये मेरे प्रोफेशनल करियर का सबसे बु!रा अनुभव था।’ ये शब्द शजिला अ!ब्दुल रहमान के हैं। शजिला कैमरापर्सन हैं। बीते 2 जनवरी को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश के खि;लाफ हो रहे वि;रो;ध प्रदर्शन को कवर कर रही थीं।

इस दौरान उन पर ह;मले हुए और उनकी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर जमकर शेयर की जाने लगी। तस्वीर में शजिला अपने आंसूओं को रोकने की कोशिश कर रही हैं। केरल के अखबार मातृभूमि में छपी इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा है।

केरल की ही कैराली टीवी की ओर से शाजिला को वि!रोध प्रदर्शन कवर करने के लिए तिरुअनंतपुरम भेजा गया था। यहां मंदिर में महिलाओं के घु!सने को लेकर कुछ लोग वि!रोध प्रदर्शन कर रहे थे। हाथ में बीजेपी का झंडा लिए कुछ लोगों ने महिलाओं और उनका समर्थन कर रहे लोगों पर ह!मला कर दिया।

शाजिला इस पूरे घट!नाक्रम को अपने वीडियो कैमरे में शूट कर रही थीं. इस दौरान उन पर भी ह!मले हुए, उन्हें धम!काया गया, गाली दी गई, लेकिन ऐसी विपरित परिस्थितियों के बीच भी वह कैमरा लेकर डटी रहीं। मुझे बीजेपी से डर नहीं लगता, इन वि!रोधों का कवरेज करती रहूंगी।

शाजिला का कहना है कि मेरे कंधों पर कैमरा था, मेरी आंखें सामने की तरफ टिकी थीं. मुझे पता नहीं चला कि किसने मुझपर ह!मला किया, पर दर्द का एहसास हो रहा था। मैं इस असहनीय दर्द से गुजर रही थी कि इस बीच उन्होंने मेरा कैमरा छिनना चाहा. पर मैंने अपनी पूरी ताक!त लगाकर उसे बचाए रखा।

ऐसा करने में मेरी गर्दन का किनारा घायल हो गया, लेकिन मुझे बीजे!पी से डर नहीं लगता. मैं सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खि!लाफ हो रहे इन वि!रोधों का कवरेज करती रहूंगी. फिलहाल शाजिला का इलाज तिरुअंतपुरम के अस्पताल में चल रहा है.

बीते 2 जनवरी को केरल के सबरीमाला मंदिर में 50 साल से कम उम्र की दो महिलाएं सुबह के करीब चार बजे मंदिर के गर्भगृह तक पहुंच गईं और भगवान अयप्पा के दर्शन किए। इसके बाद पूरे देश में हं!गामा हो गया। इसका सबसे ज्यादा असर केरल में देखने को मिला, जहां जगह-जगह पर वि!रोध प्रदर्शन शुरू हो गएं।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले की अनदेखी करते हुए मंदिर का शुद्धिकरण भी किया गया. बी.जे.पी. और आर.एस.एस. का झंडा लिए लोग विरोध प्रदर्शन करने लगे. ये प्रदर्शन अब भी जारी है।

Facebook Comments
Loading...