25 दिन बाद पुलिस के हाथ लगा इंस्पे!क्टर सुबोध का ह;त्या!रा, जु!र्म भी क!बूला

526

बुलंदशहर हिंसा के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की ह(त्या करने वाले को गि!रफ्ता)र कर लिया गया है. उसकी पहचान बु!लंदशहर निवासी प्रशांत नट के रूप में हुई.

एसएसपी बुलंदशह!र प्रभाकर चौधरी ने नट की गिरफ्ता!री की पुष्टि की है। बता!या जा रहा है कि पूछताछ में आ!रोपी ने अपना जु!र्म भी क!बूल कर लिया है। उसे आज (शुक्रवार को) को!र्ट में पेश किया जाएगा. इसके अलावा रिवॉ!ल्वर चुरा!ने वाले जॉनी की भी पहचान हो गई है उसकी त!लाश की जा रही है.

पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, जॉनी ने इंस्पे!क्टर सुबोध कुमार सिंह की रिवॉ!ल्वर चो!री की थी, जबकि प्रशां!त नट ने उन्हें गो!ली मा!री थी। इस मा!मले में पुलिस को दो वी!डियो मिले थे, जिनमें ये दोनों एक साथ नजर आए। ऐसे में जॉनी और प्रशांत नट को इंस्पेक्ट!र की ह(त्या का मुख्य आ)रोपी बनाया गया है.

इसके अलावा यो!गेश राज को हिं!सा भड़का!ने का मुख्य आ!रोपी बनाया गया है। 3 दिसंबर को हुई थी हिं!सा : गौरतलब है कि बुलंदशहर में 3 दिसंबर को कथित गौ!कशी के बाद हुई हिं!सा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की ह(त्या कर दी गई थी। वहीं, भी!ड़ में शामि!ल एक युवक की भी मौ!त हो गई थी.

इस मामले में पुलि!स ने सबसे पहले जी!तू फौ!जी को गिरफ्तार किया था, जो घटना के दिन पुलिस चौकी के सा!मने मौजूद था. यूपी एसटीएफ के एसएसपी का कहना है कि आ!रोपी जवान जीतू ने बुलंदशहर हिं!सा के दौरान उपद्र!वियों की भी!ड़ में शा!मिल होने की बात क!बूल की थी.

यो!गी ने कहा था- यह राज!नीतिक सा!जिश :

बुलंद!शहर हिं!सा मामले में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घट!ना को सरकार के खिला!फ राजनीतिक सा!जिश करार दिया था. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इस सा!जिश को बेनका!ब करने में कामयाब रही.

वहीं, हिंसा में शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के घरवा!लों का आ!रोप है कि इस घटना के स!बूत मिटाए जा रहे हैं. सुबोध कुमार की पत्नी और बेटे का आ!रोप है कि इंस्पेक्टर का का!तिल खुलेआ!म घूम रहा है, क्योंकि उसे राजनीतिक संरक्षण मिला हुआ है.

एसएसपी प्रभाकर चौधरी के मुताबिक, इंस्पेक्टर ने आ!त्मर!क्षा में गो!ली चलाई थी, जि!समें सुमित नाम के युवक की मौ!त हुई थी। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, वी!डियो फुटेज और कुछ लोगों की ग!वाही के आधार पर इंस्पेक्टर की ह)त्या में नट को सं!दिग्ध पाया गया. बता दें कि इस मामले में बुलंदशहर पुलिस अब तक 22 लोगों को गिरफ्ता!र कर चुकी है। वहीं, छह से ज्यादा लोगों ने अदालत में आ!त्मस!मर्पण किया है.

Facebook Comments
Loading...